किसी के न रहने पर उसके गूगल डाटा के साथ क्या होता है? | Google data after death

google-account-data

नमस्कार दोस्तो । आजकल लगभग हर किसी के लिए उसका  मोबाइल बहोत इंपोर्टेंट  है। सबको अपनी प्राइवेसी पसंद होती है।  लेकिन क्या आपने कभी विचार किया  है कि किसी इंसान के मरने या उसके इस दुनिया में न रहने  के बाद उसके गूगल (Google) और ऐपल (Apple) के क्लाउड सर्विस (Cloud Service) पर सेव हुए डेटा के साथ क्या होता होगा ?(our google cloud data after death) । 
दोस्तो आपको बता दें गूगल इसके लिए अपने यूजर्स को एक खास फीचर देता है जिसमें हमें ये डिसाइड कर सकते है कि हमारे अकाउंट को इनएक्टिव (Inactive) कब माना जाये और अकाउंट के इनएक्टिव होने के बाद हमारे डाटा के साथ क्या होना चाहिए ।  आप एक उदाहरण से आसानी से इसे समझ सकते है जैसे हम बैंक में या अपनी प्रॉपर्टी में अपना नॉमिनी चूज़ करते है जो हमारे न रहने पर उसी देख रेख करता है या उसका उपयोग कर सकता है इसी कान्सैप्ट से मिलता जुलता है गूगल का ये ऑप्शन । 
 

अपने डाटा को मैनेज कीजिये 

अगर आप एक Android फोन यूजर हैं, तो साधारण सी बात है की गूगल के पास आपका काफी सारा डाटा मौजूद होगा क्यूंकी ऐनड्रोइड ऑपरेटिंग सिस्टम गूगल का ही है और वो आपके बारे में सभी कुछ जनता है। जैसे की गूगल आपकी पसंद-नापसंद संबन्धित सारा डाटा अपने पास सुरक्षित रखता है जिससे की वो आपको आपकी पसंद की चीजों संबन्धित रेकोमेंडेसन दे सके । इसके अलावा गूगल के पास आपकी बैंक कार्ड की डिटेल्स और पासवर्ड जैसी अति संवेदनशील जानकारिया भी सुरक्षित होती है । ऐसे में इन सभी संवेदनशील जानकारियों के लिए Google हमें अपने Google Account में ऑप्शन देता है कि हम अपना सारा डाटा किस के साथ शेयर करना चाहते है जो हमारे बाद इसका ध्यान रखे । 

 

डाटा का क्या होगा?

दोस्तो आपको बता दें पहले ऐसा होता था कि जब कोई यूजर कई महीनों तक अपने Google अकाउंट का उपयोग नहीं करता था , तो वह अकाउंट अपने आप ही इनएक्टिव स्टेट में चला जाता था । पर अब Google आपको यह डिसाइड  करने का ऑप्शन देता है कि आपके अकाउंट को इनएक्टिव  कब माना जाना चाहिए और आपके बाद उसके साथ क्या होना चाहिए । 

 

कैसे शेयर करें अपना डाटा?

दोस्तो Google अपने यूजर्स को एक ट्रस्टेड पर्सन  के साथ अकाउंट और उसके  डेटा को शेयर करने की अनुमति  देता है या वे अपनी इच्छानुसार खाता निष्क्रिय होने पर उस डाटा को गूगल से हटा देने का अनुरोध भी कर सकते है । एक और अच्छा फीचर ये भी है कि Google यूजर को अकाउंट को निष्क्रिय मानने के लिए एडिशनल वेटिंग पीरियड निर्धारित करने की अनुमति भी देता है, जिसे यूजर्स अधिकतम 18 महीने तक चुन सकते हैं। मतलब आप इस बात का चुनाव कर सकते है की अगर आपके  गूगल अकाउंट पर 18 महीनो तक कोई एक्टिविटी न हो तो उसे इनएक्टिव समझा जाए और  इच्छानुसार  उस अकाउंट के डाटा को डिलीट कर दिया जाए या किसी आदमी को उसका एक्सैस दिया जाए । आइए जानते  हैं कि आप इस ऑप्शन का यूज कैसे कर सकते हैं.
•    अपने डाटा को मैनेज करने के लिए आपको myaccount.google.com/inactive पर जाना होगा। यहा आप आसानी से आपके अकाउंट के इन एक्टिव होने पर आपके डाटा के साथ जो भी करना चाहते है उसका चुनाव कर सकते है , पर अगर आप आपके बाद अपने डाटा का एक्सैस किसी को देना चाहते है तो इस बात का ध्यान जरूर रखें कि वो व्यक्ति जिसे आप चुन रहे है उस पर आपको पूरा भरोसा हो। 
•    एक बार जब आप ऊपर दिए गए लिंक पर जाएंगे , तो वहाँ आपको सबसे पहले इनएक्टिव, ईमेल आईडी, फोन नंबर और अन्य डिटेल्स के लिए वेटिंग पीरियड फिल  करना होगा। 
•    इसके बाद, Google आपको मैक्सिमम 10 लोगों को चुनने का ऑप्शन देगा, जिन्हें आप सूचित करना चाहते हैं जब आपका Google अकाउंट इनएक्टिव  हो जाता है और अब आप अपने खाते का इस्तेमाल नहीं कर रहे हैं। 


डाउनलोड करने का भी दे सकते है एक्सेस 

आप अपने कुछ डाटा का एक्सेस किसी और को देने के साथ उसे इस बात की भी परमिशन दे सकते हैं कि वो डाटा को  डाउनलोड कर सके। इसके लिए एक ट्रस्टेड ईमेल आईडी की जरूरत होती है। वैसे गूगल यह ऑप्शन भी देता है कि आप किसी को भी अपने डाटा का एक्सेस न दें। इस दशा में आपको किसी भी ईमेल आईडी को लिखने की आवश्यकता  नहीं है।  इसका अर्थ  यह होगा कि आपका डाटा गूगल से हमेशा के लिए हटा दिया जाएगा और आपका खाता इनएक्टिव होने के बाद भविष्य में इसे कोई भी कभी भी रिस्टोर नहीं कर पाएगा। 

 

कितना एक्सेस दिया जा सकता है ?

आप अपने Google पे, Google फोटोज, Google चैट, लोकेशन हिस्ट्री, गूगल सर्च हिस्ट्री और बाकी उन सभी चीजों का एक्सेस दे सकते हैं जिन पर आपने कभी न कभी अपनी गूगल आईडी का इस्तेमाल किया हो। आपको बताते चले कि आप जिस व्यक्ति को अपने गूगल अकाउंट का एक्सेस देते हैं वो आपके Google अकाउंट के इनएक्टिव होने के बाद सिर्फ 3 महीने तक ही आपके अकाउंट को एक्सेस कर सकेगा उसके बाद नहीं । 

 

Email भेजकर सूचित  करेगा गूगल

जब आप Google पर सेटअप करेंगे तो आपको एक Subject line और कंटेंट लिखना होगा जो कि एक मेल के रूप में आपके उस विश्वसनीय कॉन्टैक्ट को भेजा जाएगा जिसको आप अपना गूगल अकाउंट का एक्सैस देना चाहते है ।  Google उस ईमेल में एक फुटेर जोड़ देगा, जो कि मेल रिसीव करने वाले को ये समझाएगा कि आपने अपने खाते का उपयोग बंद करने के बाद अपना एक्सेस उन्हें सौंप दिया है। 
दोस्तो आशा करता हूँ आपको ये पोस्ट पसंद आई होगी और आपको महत्वपूर्ण जानकारी मिली होगी । अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया हो तो इसे अन्य लोगो के साथ शेयर अवश्य करें , धन्यवाद । 
 



Leave a reply